Hare Krishna Mahamantra is a wish-fulfilling Gem

Srila-Bhakti-Bibudha-Bodhayan-Goswami-Maharaj-Quote-30-September
  • Save

The most merciful Supreme Lord Sri Krishna will be extremely pleased with us when we serve his pure devotees (Guru and Vaishnavas) and chant the Hare Krishna Mahamantra under their shelter. When we become a humble servant of these exalted devotees and sincerely commit ourselves to the loving service of these great souls, then the Divine Couple Sri Sri Radha-Gopinath will surely reveal in our heart, making us eternally blissful.

Srila Bhakti Bibudha Bodhayan Goswami Maharaj
30-September-2020

Srila-Bhakti-Bibudha-Bodhayan-Goswami-Maharaj-Quote-30-September-Hindi
  • Save

जब हम शुद्ध भक्तों की (गुरु और वैष्णवों) की सेवा करेंगे और उनकी शरण में हरे कृष्ण महामंत्र का जप करेंगे तब परम कृपालु भगवान् श्रीकृष्ण हमसे बहुत प्रसन्न होंगे| जब हम इन महान भक्तों के विनम्र सेवक बन जाते हैं और पूर्ण निष्ठा से इनकी प्रेममयी सेवा करते हैं तब दिव्य युगल जोड़ी श्री श्री राधा गोपीनाथ निश्चित ही हमारे ह्रदय में प्रकट होंगे और हमें नित्य आनंद प्रदान करेंगे|

श्रील भक्ति विबुध बोधायन गोस्वामी महाराज
30-September-2020

Srila-Bhakti-Bibudha-Bodhayan-Goswami-Maharaj-Quote-29-September
  • Save

Supreme Lord Sri Krishna’s mercy and favour are unlimited like an ocean. The Spiritual Master, who is the dear most devotee of Sri Krishna can lead the disciples to this ocean. Therefore, we must immerse in devotional service through the chanting of the Hare Krishna Mahamantra under the shelter of the Spiritual Master as only He has the power to give us Sri Krishna and rescue us from the blazing fire of this material world.

Srila Bhakti Bibudha Bodhayan Goswami Maharaj
29-September-2020

Srila-Bhakti-Bibudha-Bodhayan-Goswami-Maharaj-Quote-29-September-Hindi
  • Save

भगवान् श्रीकृष्ण की दया और कृपा, सागर के समान असीमित हैं| हमारे अध्यात्मिक गुरु, जो कि श्रीकृष्ण के सबसे प्रिय भक्त हैं, अपने शिष्यों का नेत्रित्व इस सागर की ओर कर सकते हैं| इसलिए हम सबको अपने अध्यात्मिक गुरु का आश्रय लेकर, हरे कृष्ण महामंत्र के जप के माध्यम से भक्ति सेवा में डूब जाना चाहिए क्यूंकि केवल अध्यात्मिक गुरु में ही भौतिक जगत की धधकती हुई अग्नि से हमारी रक्षा करके हमें श्रीकृष्ण देने का सामर्थ्य है|

श्रील भक्ति विबुध बोधायन गोस्वामी महाराज
29-September-2020


Srila-Bhakti-Bibudha-Bodhayan-Goswami-Maharaj-Quote-28-September
  • Save

When we give due respect to every living being and chant the Hare Krishna Mahamantra happily, our offences will pass away, and we will be free from all material contamination. Through the chanting of this holy Mahamantra, we will be fully purified and engage ourselves in the devotional service realizing our constitutional position, of being the eternal servant of the Divine Couple Sri Sri Radha-Krishna.

Srila Bhakti Bibudha Bodhayan Goswami Maharaj
28-September-2020

Srila-Bhakti-Bibudha-Bodhayan-Goswami-Maharaj-Quote-28-September-Hindi
  • Save

जब हम सभी प्राणियों को यथा योग्य सम्मान देंगे और प्रसन्नतापूर्वक हरे कृष्ण महामंत्र का जप करेंगे तो हम अपराधमुक्त हो कर भौतिक मलिनताओं से दूर हो जायेंगे| हरे कृष्ण महामंत्र का जप करके हम पूर्ण रूप से विशुद्ध हो जायेंगे और हमें अपनी स्वाभाविक स्थिति का एहसास हो जायेगा जो कि दिव्य युगल जोड़ी श्री श्री राधा कृष्ण के नित्य दास होना है, और इस तरह हम उनकी भक्तिमय सेवा में संलग्न हो जायेंगे|

श्रील भक्ति विबुध बोधायन गोस्वामी महाराज
28-September-2020

Srila-Bhakti-Bibudha-Bodhayan-Goswami-Maharaj-Quote-27-September
  • Save

We put so much effort in maintenance of this mortal body which is continuously changing and will eventually meet death. Our real identity is the eternal spirit soul, seated in our heart, which is a tiny spark emanating from the Supreme Lord Sri Krishna.
This human body grants us the opportunity to nourish this soul by performing the greatest spiritual activity, which is chanting of the Hare Krishna Mahamantra under the shelter of pure devotee (Vaisnavas) and free us from getting further material bodies, which are by nature full of misery.

Srila Bhakti Bibudha Bodhayan Goswami Maharaj
27-September-2020

Srila-Bhakti-Bibudha-Bodhayan-Goswami-Maharaj-Quote-27-September-Hindi
  • Save

हम इस नश्वर शरीर के पालन पोषण का बहुत प्रयास करते हैं जो कि लगातार बदल रहा है और जिसकी अंततः मृत्यु हो जाएगी| हमारी वास्तविक पहचान तो हमारे ह्रदय में विराजमान हमारी शाश्वत आत्मा है, जो कि श्रीकृष्ण से उत्पन्न हुयी एक छोटी सी चिंगारी है| यह मानव शरीर हमें इस आत्मा को पोषित करने का बहुत बड़ा अवसर प्रदान करता है| शुद्ध वैष्णवों का आश्रय लेकर हरे कृष्ण महामंत्र का जप करने से हमारी अध्यात्मिक उन्नत्ति होगी और हम आगे से इस क्लेश्युक्त भौतिक शरीर को प्राप्त करने से मुक्त हो जायेंगे|

श्रील भक्ति विबुध बोधायन गोस्वामी महाराज
27-September-2020

Srila-Bhakti-Bibudha-Bodhayan-Goswami-Maharaj-Quote-26-September
  • Save

The Hare Krishna Mahamantra is non-different from the Supreme Lord Sri Krishna and therefore it is a wish-fulfilling gem, full of sweet rasas, absolute, pure and eternal.
This divine Mahamantra is more powerful and compassionate than Lord Himself and can deliver the entire material world. Therefore, we must constantly chant this Hare Krishna Mahamantra with undeviating faith without offences and free ourselves from all threatening issues of material existence.

Srila Bhakti Bibudha Bodhayan Goswami Maharaj
26-September-2020

Srila-Bhakti-Bibudha-Bodhayan-Goswami-Maharaj-Quote-26-September-Hindi
  • Save

हरे कृष्ण महामंत्र जो कि भगवान् श्रीकृष्ण से अभिन्न है, अपने आप में पूर्ण, पवित्र, नित्य और मधुर रस से परिपूर्ण एक चिंतामणि है| यह दिव्य महामंत्र, स्वयं भगवान् से भी अधिक शक्तिशाली और करुणामय है जिसमें सम्पूर्ण भौतिक जगत को मुक्त करने का सामर्थ्य है| इसलिए हमें पूरी निष्ठा के साथ अपराधमुक्त होकर निरंतर हरे कृष्ण महामंत्र का जप करना चाहिए और भौतिक जगत की भयानक परिस्थितियों से स्वयं को मुक्त करा लेना चाहिए|

श्रील भक्ति विबुध बोधायन गोस्वामी महाराज
26-September-2020

Srila-Bhakti-Bibudha-Bodhayan-Goswami-Maharaj-Quotes-26-30-Sep-2020
  • Save

Leave a Comment

Share via
Copy link
Powered by Social Snap